Friday, July 19, 2024
HomeHimachal Newsएक राष्ट्र एक चुनाव नीति को लागू करने की संभावनाएं तलाशने का...

एक राष्ट्र एक चुनाव नीति को लागू करने की संभावनाएं तलाशने का मेला राम शर्मा ने किया स्वागत

सिरमौर जिला भाजपा प्रवक्ता मेलाराम शर्मा

सिरमौर। जिला सिरमौर जिला भाजपा प्रवक्ता मेलाराम शर्मा ने केंद्र सरकार द्वारा एक राष्ट्र एक चुनाव नीति को लागू करने की संभावनाएं तलाशने के लिए पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता में कमेटी गठित करने के निर्णय का स्वागत किया है। जिला प्रवक्ता ने बताया कि एक देश एक चुनाव बहुत ही विकासोन्मुख विचार है और लगातार चुनाव के कारण देश में बार-बार आचार संहिता लगने से धन और बल दोनों की हानि होती है और देश के विकास में रुकावट आती है।
मेलाराम शर्मा ने बताया कि लोकसभा और विधानसभाओं के लिए अलग-अलग समय पर चुनाव होने के कारण बार-बार शिक्षकों, कर्मचारीयों और सुरक्षा बलों की तैनाती से देश प्रदेश के संसाधनों पर विपरीत असर पड़ता है। चुनाव के लिए बार-बार तैनाती के कारण कर्मचारी अधिकारी और शिक्षक वर्ग अपने देश के विकास की अपेक्षा अपना समय बार-बार होने वाले चुनाओं पर बर्बाद करते हैं।

यदि एक देश एक चुनाव नीति लागू होती है तो देश प्रदेश के कर्मचारी और अधिकारी अपने संसाधन और समय विकासोन्मुख योजनाओं के कार्यान्वयन पर लगा सकेंगे। उन्होंने कहा की बार-बार चुनाव होने से आम जनजीवन तो प्रभावित होता है साथ में विकास प्रक्रिया में भी रुकावट आती है। उन्होंने कहा की लोकसभा और विधानसभा चुनाव अलग-अलग समय पर होने के कारण राज्य सरकारें आवश्यक नीतिगत निर्णय भी नहीं ले पातीं और विभिन्न योजनाएं लागू करने में बार बार‌ बाधाएं आती रहती है।
यह भी पढ़े:- मणिमहेश यात्रा के लिए ऑफलाइन पंजीकरण आज से, 13 सेक्टरों में विभाजित होंगी इस बार की यात्रा
मेलाराम शर्मा ने कहा कि देश प्रदेश में बार-बार आचार संहिता लागू होने के कारण सत्ताधारी दल ना तो किसी नई योजना की घोषणा कर सकती है और ना ही योजना शुरू करने के लिए वित्तीय स्वीकृतियां प्रदान कर पाती हैं इससे निसंदेह ही विकास प्रक्रिया प्रभावित होती है।

जिला प्रवक्ता ने बताया कि बार-बार चुनाव होने से सरकारी खजाने पर भीअनेक बार अतिरिक्त आर्थिक बोझ पड़ता है और देश प्रदेश का धन विकास कार्यों की अपेक्षा चुनावों पर खर्च होता है । एक देश एक चुनाव की नीति लागू होने पर काले धन और भ्रष्टाचार पर भी रोक लगेगी। उन्होंने बताया कि चुनाव के दौरान अनेक राजनीतिक दलों और प्रत्याशियों द्वारा काले धन का खुलकर इस्तेमाल किया जाता है। बार-बार चुनाव पर रोक लगने से इस प्रकार के अनैतिक कार्यों पर भी रोक लग पाएगी।
मेलाराम शर्मा ने बताया कि इस प्रकार के ठोस निर्णय लेने की क्षमता केवल भारतीय जनता पार्टी की सरकार में ही है । उन्होंने उम्मीद जताई कि आगामी 18 से 22 सितंबर तक बुलाए जा रहे संसद के विशेष सत्र के दौरान एक राष्ट्र एक चुनाव नीति पर ठोस फैसला लिया जाएगा ताकि बार बार होने वाले चुनावों के कारण आने वाली अनेक समस्याओं से निजात पा कर देश और प्रदेश में विकास गति तेज हो पाएगी।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments