Friday, July 19, 2024
HomeHimachal Newsधुआं मुक्त से लोकतंत्र पैहरी का अधिकार, भाजपा का संकल्प नारी को...

धुआं मुक्त से लोकतंत्र पैहरी का अधिकार, भाजपा का संकल्प नारी को सम्मान। रिपोर्टर कपिल शर्मा

 

धुआं मुक्त से लोकतंत्र पैहरी का अधिकार, भाजपा का संकल्प नारी को सम्मान।

 

विवेक शर्मा प्रवक्ता भारतीय जनता पार्टी ने केंद्र सरकार का धन्यवाद करते हुए कहा।

नारी शक्ति वंदना अधिनियम 29 सितंबर 2023 को राष्ट्रपति की मोहर के साथ कानून में परिवर्तित हो गया

27 वर्षों से यह लटका प्रस्ताव आखिर 33% अधिकार के साथ आधी आबादी, महिलाओं को समर्पित हो गया दृढ़ इच्छा शक्ति व समाज ने शिक्षा, समरसता व राष्ट्रीय निर्माण की भावना लिए उज्जवल भविष्य की ओर बढ़ता कदम है। जहां एक और राजनीतिक में अपराध पर भी अंकुश लगेगा व अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र में महिला सशक्तिकरण में यह कानून मील का पत्थर साबित होगा वह राष्ट्र निर्माण की ज्योति प्रज्वलित होगी घुटन में जीवन व्यतीत कर रही महिलाओं को सम्मान प्राप्त होगा। भारत की नई संसद भवन में यह पास होने वाला पहला बिल अपने आप में एक ऐतिहासिक घटना है। मजबूरी में कांग्रेस व उनके सहयोगी संगठनों को भी इसका समर्थन करना पड़ा अन्यथा यह अधिकार 27 वर्ष पूर्व मिल जाता।

बहुत से राजनीतिज्ञों, परिवारवाद की दुकान चलाने वाले को यह अधिकार विचलित कर रहा है।

मैं अपने आलोचक मित्रों को यह बताना चाहता हूं ग्लोबल जेंडर रिपोर्ट के अनुसार 146 मुल्कों में महिला राजनीतिक सशक्तिकरण को लेकर भारत का स्थान 48 में नंबर पर था इस कानून के बाद जहां भारत का विश्व में सम्मान बढ़ेगा वही भारतीय नारी का राष्ट्र में सम्मान बढ़ेगा।

वर्तमान परिवेश में केवल 82 महिला सांसद इस समय देश में महिलाओं का प्रतिनिधित्व कर रही है जो के अब 181 हो जाएगी इन पर भी महिलाओं के अधिकारों की सुरक्षा उनके उत्थान की जिम्मेदारी सुनिश्चित होगी, आज हिमाचल प्रदेश में केवल एक महिला विधायक रीना कश्यप है। वह भी भारतीय जनता पार्टी का प्रतिनिधित्व करती हैं। कांग्रेस की सरकारों में परिवारवाद के नाम पर तो महिलाओं को स्थान मिला लेकिन सामान्य वर्ग की महिलाओं को कभी सम्मान नही दिया जो कांग्रेस की नियत व नियति पर प्रश्न उत्पन्न करता है हम वर्तमान प्रदेश सरकार से अपेक्षा करते हैं कि वह खुलकर दलगत राजनीति से ऊपर उठकर इसका स्वागत करें इसका अभिनंदन करें मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह से हमारे राजनीतिक मतभेद हो सकते हैं। लेकिन इस कानून ने उनके परिवार की बेटियों वह निष्ठावान महिला कार्यकर्ताओं के लिए भी रास्ते खोले है।

अब तक जो महिलाएं शिक्षा रोजगार के क्षेत्र में ही संघर्ष कर रही थी अब उनके लिए राजनीति के दरवाजे भी खुले हैं भारत के निर्माण में उनका योगदान भारतीय जनता पार्टी की सोच का प्रमाण पत्र है। वह भारत माता के प्रति सच्चे वंदना है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments