Saturday, July 13, 2024
HomeHimachal Newsशिलाई क्षेत्र के नाया गांव की बिधुवा महिला कचे मकान में रहने...

शिलाई क्षेत्र के नाया गांव की बिधुवा महिला कचे मकान में रहने को मजबूर,परिवार को BPL की सूची तक मे अंकित नहीं किया गया है

नही मिल सरकार की योजना का लाभ

उभरता भारत की टीम इस परिवार की मदद के लिए बढ़ाया हाथ

शिलाई क्षेत्र के ग्राम पंचायत नाया पंजोड़ के अंतर्गत गांव नाया मे एक ऐसा परिवार रहता है जिसकी आर्थिक स्थिति और पारिवारिक स्थति बहुत दयनीय है।
वही उभरता भारत की टीम इस परिवार की वास्तविक स्थिति जानने के लिए चम्पा देवी के घर पर पहुंची। ज़ब मौके पर जाकर इसका जायजा लिया तो पाया की परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत ही दयनीय है और परिवार के जीवन यापन के लिए सबसे महत्वपूर्ण मुलभुत जरूरतें रोटी कपड़ा और मकान भी उपलब्ध नहीं हो सका है।

 

ग्राम पंचायत नाया पंजोड़ के गांव नाया की रहने वाली एक बुजुर्ग गरीव विधवा महिला का परिवार बहुत ही दयनीय स्थिति मे रहने को मजबूर है ।
महिला का एक बेटा है जो की मानसिक व शारीरिक रूप से विकलांग है इनका नाम कपिल है जो लगभग 32 वर्ष के हो चुके है और उनकी शादी हो चुकी है और उनके तीन बच्चे भी है तमाम चुनौतीयों के बावजूद रेखा ज़ी बड़ी मुश्किल से बच्चों और परिवार का पालन पोषण कर रही है और बिधवा महिला चम्पा देवी को व उनके बेटे को मिलने वाली पेंशन से ही मुश्किल से इनका गुजारा हो पा रहा है।
हैरानी की बात यह है की इस परिवार मे बुजुर्ग चम्पा देवी के परिवार मे कमाने वाला कोई भी नहीं है और ना ही इनके पास जीवन यापन के लिए खेती करने योग्य जमीन और ना ही इनके पास पक्का मकान है मकान मे यह लोग रहते है उसकी स्थिति भी बहुत दयनीय है कभी भी किसी प्राकृतिक आपदा का सामना करना पड़ सकता है। लेकिन इन सबके बावजूद भी इस परिवार को BPL की सूची तक मे अंकित नहीं किया गया है।

 

 

 

 

स्थानीय ग्राम पंचायत प्रधान श्री लायक़ राम ज़ी को भी मोके पर बुलाया गया और इस परिवार की स्थिति के बारे मे अवगत करवाया गया और उन्हें कहा की जितना जल्दी और जितना सम्भव हो सके इनकी सहायता करे। इस परिवार को BPL की सूची मे डाले और उन्हें प्रधानमंत्री आवाज़ योजना के तहत इस परिवार को घर बनाने की मंजूरी प्रदान करे ताकि इस परिवार को भी समाज की मुख्यधारा मे आने का मौका मिल सके।

एक औरत के लिए यह कितना मुश्किल है इसका अनुमान भी लगाया जाना मुश्किल है।

इतनी दयनीय हालत के बाद भी इस परिवार को किसी भी प्रकार के सरकारी अनुदान और सरकारी योजना का लाभ नहीं पहुच पाया है हर बार इन्हे ठगा जाता है और BPL जैसी सरकारी योजना से यह वंचित रह जाता है और इन योजनाओं का लाभ पूँजीपति और सक्षम लोग उठा लेते है।

वही आज उभरता भारत के कोषाध्यक्ष श्री प्रकाश भारद्वाज और अन्य साथी इस दौरान मोके पर गये और परिवार को लगभग दो महीने का राशन आवंटित किया गया
संस्था उभरता भारत के द्वारा कहा गया हमारा प्रयास रहेगा की इस परिवार के बच्चों की पढ़ाई लिखाई के खर्चे के निर्वहन के लिए…. परिवार को BPL की सूची मे डालने और उनके परिवार को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत घर दिलवाने का हर संभव प्रयास करेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments